Blog Archives

देशभक्त की गाथा…

है दिल में भरा नफरत पर मैं देशभक्त हूँ,

नहीं समझता मैं संविधान के मुल्यों को पर मैं देशभक्त हूँ,

नहीं पालन करता मैं कानून का पर मैं देशभक्त हूँ,

हूँ मैं भ्रष्ताचार में लिप्त पर मैं देशभक्त हूँ,

कमाता हूँ मैं अवैधानिक दौलत पर मैं देशभक्त हूँ,

नहीं भरता मैं कोई कर पर मैं देशभक्त हूँ,

चल रहे हैं कई मुकदमे मुझपर पर मैं देशभक्त हूँ,

भरता हूँ अपना पेट मैं गरीबों के पैसे से पर मैं देशभक्त हूँ,

हड़पता हूँ मैं शहीदों के परिवार के लिए बनाए घर पर मैं देशभक्त हूँ,

लूटता हूँ अस्मत मैं ऒरतों की पर मैं देशभक्त हूँ,

भडकाता हूँ मैं दगें पर मैं देशभक्त हूँ,

करता हूँ मैं जातीय भेदभाव पर मैं देशभक्त हूँ,

नही दिखती लोगो में फैली अशिक्षा पर मैं देशभक्त हूँ,

नहीं दिखती समाज में पैठ बनाती आर्थिक भेद पर मैं देशभक्त हूँ,

नहीं करना चाहता मैं देश और समाज के लिए कोई त्याग पर मैं देशभक्त हूँ,

नहीं देना चाहता मैं देश और समाज के लिए अपने सुख का बलिदान पर मैं देशभक्त हूँ,

नहीं जाना चाहता मैं सीमा पर लड़ने को पर मैं देशभक्त हूँ,

हाँ,

नहीं दिखता मुझे गोले बारुद पर व्यर्थ होते कोष क्योंकि मैं देशभक्त हूँ,

नहीं दिखते मुझे सीमा पर गिरति लाशें क्योंकि मैं देशभक्त हूँ,

नहीं समझ पाता मैं कि उस कोष से पुरी अशिक्षा मिट सकती है क्योंकि मैं देशभक्त हूँ,

नहीं समझ पाता मैं कि उस कोष से सभी को गुणवत्ता भरी स्वास्थ्य सेवा मिल सकती है क्योंकि मैं देशभक्त हूँ,

हूँ मैं देशभक्त क्योंकि इससे ही मेरी नय्या चलती है,

हूँ मैं देशभक्त क्योंकि इससे ही मेरी रोटी सीकति है,

हूँ मैं देशभक्त क्योंकि इसका दामन ओढक़र समाज में अपनी पैठ बनाता हूँ,

हूँ मैं देशभक्त क्योंकि इसका चोला पहनकर वोट मांग पाता हूँ,

गर्व है मुझे कि इंसानी मूल्यों से ज्यादा देशभक्ति के मूल्य दिखाता हूँ,

जवानों को सरहद पर भेजकर यहाँ मलाई बैठकर खाता पाता हूँ।

 

For #DESHBHAKT of India, China and Pakistan alike without any Prejudice and Discrimination….

%d bloggers like this: